Thursday, January 19, 2012

दो धकेल !

कौउन है भैय्या भागम-भाग,
कौउन मचाये रेलम-रेल,
निपट गई है अब तो साँसे,
कोई तो मुझको दो धकेल.

जाड़ा फुदक के आ गया,
सूरज छुपा है एक ओट,
ठिठुर ठिठुर के रात है बीती,
हाथी नाचे कम्बल ओढ़.

                                                                                                                               
                                          युवराज बसेरा झोपड़ में,
                                          दांव लगाए चौपड़ में,
                                          सबको सुनाये अपनी बद्कहाई,
                                          निर्धन ने एक बनियान ना पाई.



     






इटली की तू रानी है,
    तो बुंदेला भी तो मेरा है,
  तू झांसी ना देख सकी,
      अयोध्या में मेरा रेला है.



                                 पैर जमाये कब्र में,
                                 शत्रु को ढूंढें फिरू,
                                 रथ के पहिये जाम है,
                                 अर्र्रे सरजी पेट्रोल के बहुत ज्यादा दाम है.




आओ आओ और जूझ जाओ,
किस्से किवदंती सुनाओ,
क्या बाबा, क्या गांधी,
दांत काटे, मिले ना पानी.

7 comments:

shilpi said...

Bundela to apna hai par ye rani kaha hai italy ki raj to india pe hi kar rahi hai.. :)

Amritash said...

Right on time, new dimension(kavita) of yours..
Do Dhakel, Relam Pel, Akel Akel!

sleepingghost said...

@Shilpi - Na Raani bachegi, na Bundela, sab aapas mein lad marenge.

@Amritash - Buss prayaas kiya hai bhai. LOL (Akel-Akel)

Megha said...

its an awesome blog reflecting current scenarios of indian politics.
kuch lines meri taraf se भ्रष्ट होना है जैसे एक भेड़चाल
आओ ठीक करें देश का हाल
बाँध के खादी से एक भ्रष्ट नेता को
दो खड्डे में ऐसे धकेल
पीछे पीछे आएँगे समर्थक
खत्म होगी ये रेलम पेल :)

shilpi said...

@Megha & Ashish : I truely wish something happens like this.. Indian politics need a gr8888888 change.......

SS/bond said...

it is such a meaning full poem with a great creativity......salute sirji

Richa Mishra said...

Thats really a creative and a very nice try !!
Good to see you back in time with your writing skills :-)
Nice rhyming with so meaningful selection of words and infact I liked the pictures too you pasted with each paragraph :-)
All in all in your words " UTKRUSHT RACHNA " ;-)